पत्रीजी कानसेप्ट्स्‌

ध्यान हमारे सातॊं शरीरॊं कॊ सक्रिय करता है

हम सब भगवान हैं   |   हम आध्यात्मिक वैज्ञानिक हैं   |   रामराज्य

अध्यात्म विज्ञान ही स्वस्थ्य विज्ञान है   |   सबको सन्मति दे  भगवान

‘न’ चतुष्टय     |  B-E-A-T  | अंतर्जीवन  |  अंतर्मुखी ही सच्चा भाग्यवान है

   अन्नपूर्णा - ध्यानपूर्णा      |     अन्नमय्या     

   अब ... प्रसन्न है ... भूमाता     |     अभिनव तुलसीदल   

    अभ्यास - अभ्यास - अभ्यास     |     असली पढ़ाई    |     आत्मज्ञान     

    आत्मज्ञान का शासन     |  आत्मज्ञान ब्रह्मज्ञान     |     आत्मानुसंधान 

आदर्श योगी शिरडी के साई    |     आदि शंकराचार्य जी 

आध्यात्मिक शास्त्रवेत्ता - एनी बिसेंट    |     आध्यात्मिकता

आनापानसति      |     आवश्यक लाभ का अवश्य ध्यान रखें

      उत्थिष्ठ कौंतेय! युध्दाय कृत निश्चयः॥ | एक थे बुध्द 

      ओंकार (ऊँ) में निहित अनेक आत्मस्थितियाँ

ओशो रजनीश     |    कर्म सिध्दान्त     |     जंगल में चाँदनी

जय हो! विजय हो     |     ज़िन्दाबाद! ज़िन्दाबाद!     |     ज्ञानपथ

ज्ञानपथ की दीपिकाएँ     |     ज्ञानयुग     |    तिलक     |   तीन सत्य 

त्रिरत्न     |     दर्पहः दर्पदः     |     दशहरे का आनन्द

दिव्य भ्व्य नवयुग     |     दिव्यचक्षु     |     दो ही हैं     |    दो हैं

 ध्यान - सुमन ज्ञान सुरभि     |   ध्यान ... ध्यान ... ध्यानध्यान और ज्ञान की साधनाएँ

ध्यान और ज्ञान साधना     |     ध्यान कमल     |    ध्यान का शंखवाद

ध्यान गिरि     |     ध्यान गोविन्दम्‌     |    ध्यान जीवन     |     ध्यान ज्योति

ध्यान फल     |     ध्यान भेरी     |     ध्यान मंथन     |     ध्यान मंदिर

ध्यान मुकुट     |    ध्यान लोक     |     ध्यान वरम्‌     |    ध्यान शक्ति

ध्यान सागर     |     ध्यानान्‌ ज्ञानः ज्ञानान्‌ मुक्तिः     |    ध्यानोदय   

नव वर्ष आनन्दमय हो     |      नव वर्ष सन्देश (1999)

नाम में है प्रबल शक्ति     |     निर्णय     |     पंडिताः समदर्शिनः

  परमगुरु श्री जीसस     |     परमहंस     |     परिपूर्ण जीवन

पवनपुत्र हनुमान जी     |  पवित्र आध्यात्मिकता का संसार |     पिरामिड मास्टर्स की जय     

पूज्याय राघवेन्द्राय     |     प्रेयमार्ग और श्रेयमार्ग

बच्चों का पालन पोषण     |   बाबा मुद्रा |  बुध्दं शरणं गच्छामि     |     बोलने में सावधानी

ब्रह्मपदं त्वम्‌ प्रविश विदित्वा     |     ब्रह्मर्षि पत्रीजी      |     मन और बुध्दि

 मनोशक्ति     |     महान योगिनी जिल्लैल मुडि माँ

महान स्वामी विवेकानन्द     |     महाभाग्य     |     मास्टर ई के (E.K)

मास्टर सी वी वी     |     मिल - जुल कर रहने में ही सुख - सन्तोष है

मुक्ति - परिमुक्ति - महापरिमुक्ति     |     मैं     |     मैं.... और मेरी बाँसरी

योगिराज श्यामाचरण लाहिरी     |     रमते बालोन्मत्तव देव

रामराज्य     |     रामायण     |     लोब सांग राम्पा

विकसित फूलों सा बनना है     |     विचक्षणा ज्ञान     |     शरीर ही मंदिर है

शांति बिना सुख नहीं     |     शिव जी और उनकी दोनों पत्नियाँ

श्री बाल योगीश्वर     |     श्री मलयाल स्वामी     |     श्री रमण महर्षि

श्री सत्य साई     |     संकल्प शक्ति     |     संक्रान्ति

संध्यावन्दन     |     सच ही भगवान है     |     सत्यमेव जयते

सत्यमेव जयते - ध्यानमेव जयते     |     सप्तज्ञान भूमिकाएँ  | सब कुछ है ध्यान

सबको सन्मति     |     सहनशक्ति ही प्रगति है    |     साँस पर ध्यान

    सूक्ष्म में मोक्ष     |     सेवा     |     स्वर्णभारत      |     स्वामी चिन्मय

  स्वामी दयानंद सरस्वती     |     स्वास्थ्य ही महाभाग्य है 

 

Go to top